20 साल बाद बन रहा है सड़क फ़िर भी ये हाल!!

226
Sikorna
सड़क का नाम – खजूरिया टोला से PMGSY
शिलान्यास 2017 को हुआ है
कुल लंबाई 0.300 कि मी
पक्की नाली –
रौलर से दबाया हुआ- इतना कम से कम होना है ।
ढलाई कल से जारी है , गिट्टी में मिट्टी होने के कारण कल स्थानीय लोगों ने काम रोक दिया था थोड़ी सी सुधार आई है परंतु अभी भी सही काम नहीं हो रहा है
रौलर से दबाया हुआ होना चाहिए बट पैदल भी चलते हैं तो पैर धंसता है बाईक मुश्किल से टपता है, ट्रेकटर भंसता है बाकी आप समझ सकते हैंroad khejura tola
नाली का कोई अता पता नहीं ।
स्थानीय लोगों के बहुत ज्यादा गुस्सा होने पर 1 मीटर तक की ढलाई में सुधार लाया है ।
*कमी क्या है*:- बेडमिसाली की जगह कादो मिसाली गिराई गई है, ढलाई के नीचे गिट्टी नाम मात्र के हैं ।
ढलाई करते वक़्त सड़क के दोनों किनारे पटरी को जमीन के नीचे बैठाया कर 10″ इंच कर दे रहा है ।
बीच सड़क पर बड़ी मुश्किल से 5-6 इंच ढलाई कर रहा है। जिस गिट्टी से ढलाई कर रहा है इतनी मिट्टी मिली हुई है कि उसे ट्रली में लोड करने के बाद उपर पानी बहा कर साफ गिट्टी होने का नाटक करता है !
घटया किस्म का सादा बालू प्रयोग कर रहा है
सिमेंट का मात्रा बहुत ही कम दे रहा है और बालू का मात्रा अधिक दे रहा है ।
ये ढलाई सिर्फ़ नाम मात्र के हो रहा है
यह बात बता देना मुनासिब समझता हूँ कि तकरीबन 20 वर्ष पहले इस सड़क पर ईंट सोलिंग हुआ था अब 20 वर्ष बाद ढलाई का काम हो रहा है अगला काम 50 साल बाद होने का संभावना है ।sadak khejura tola katihar
काम खराब मेटेरियल से किसी तरह कर देके चला जाएगा परंतु यहां के लोगों को परेशानी वैसा ही बाकी रहेगी।
हमें अफसोस है कि कोई भी हमारे चुने हुए प्रतिनिधि काम को देखने तक नहीं आते ओर ठेकेदार व मुंसी गांव वाले को सुनते व मानते तक नहीं जिस तरह की गिट्टी में मिट्टी मिली हुई है सड़क की चिकाव विधानसभा चुनाव तक बड़ी मुश्किल से होगी । इस तरह की ढलाई करा कर वोट बटोरने का काम क्या जाएगा।
है कोई देखने वाला!? आन बान शान वाला नेता जो सड़क पर 10″inch की ढलाई करा सके हम ग्राम वासी उन का हृदय से आभारी होंगे
धन्यवाद

सद्दाम रिफ्अत: टी जी टी सामाजिक विज्ञान, मानू माडल स्कूल, हैदराबाद.