नीतीश कुमार बिहार में मजदूरों को रोजगार देने में नाकाम

382

वैश्विक महामारी कोरोना ने बिहार सरकार की विफलताओं को दर्शाया है और यह उजागर किया है कि बिहार सरकार युवाओं को रोजगार देने के मामले में सब से पिछड़े हैं
बिहार से बाहर फंसे मजदूरों की पंजीकृत संख्या तकरीबन 38 लाख है जिसमें से सिर्फ 15 से 20 लाख ही बिहार लौट पाए हैं इन मजदूरों को घर पर ही काम दिए जाने के मामले में अखबारों और टीवी चैनलों में सुर्खियां बटोर रहे थेnitish kumar कि राज्य सरकार ने 50 लाख श्रमिकों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने का लक्ष्य तय किया है। राज्य सरकार 50 लाख मजदूरों के लिए रोजगार मुहैया कराने के लक्ष्य पर काम कर रही है मई महिने को बिहार सरकार तहलका मचाये हुए था, ऐसा लग रहा था कि अब बिहार का कल्याण होने ही वाला है, स्क्रीन के पर्दे में बड़े बड़े सुनहरे शब्दों में दिखाया जाता था कि अब बिहार के लोगों को बाहर जाने की जरूरत नहीं है बिहार में ही काम मिलेगा इंडस्ट्री लगाया जा रहा है मजदूरों को मिलेगा रोजगार के अवसर तीन लाख 91 हजार योजनाएं शुरू कर दी गई हैं, बड़ी बड़ी दावा किया जा रहा था ।
अभी तक तालाबंदी खत्म हुए नहीं कि मजदूरों का पलायन शुरू हो गया है।
बसों मेंbihar bus servise भर भर कर बिहार से मजदूर पंजाब, हरियाणा ,महाराष्ट्र और दुसरे राज्यों की ओर जाने को मजबूर है।
इस बस की तसवीर देख रहे हैं यह उन हजारों बसों में से एक है जो मजदूरों को बिहार से बाहर ले जा रही है।
अब प्रश्न यह उठता है कि 50 लाख मजदूरों को रोजगार देने की बात कर रहे थे पर यह क्या हो रहा है 50% मजदूरों को भी रोजगार नहीं दे पा रहे हैं ।
कथनी करनी में अंतर है विहार वासियों को सोचने की जरूरत है।

लेखक : सद्दाम रिफ्अत, टी जी टी, सामाजिक विज्ञान, मानू माडल स्कूल, हैदराबाद।